Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English

Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English: The Word Yoga is derived from a Sanskrit word “Yuj”, which means “ to unite or to integrate”, approach to health that that promotes the harmonious union of the three components of a human being that are the body, mind, and soul.  Yoga is the holistic way of life to make a prayerful discipline, creating unity between the body, mind, and soul. Yoga is a disciplined method of attaining a goal, controlling the body and the mind, mainly Yoga makes unity between mind and body; action and thoughts; restraint and fulfillments; it makes a connection between man and nature. We are sharing Yoga Day Quotes in two languages i.e. Hindi, English. You may share these quotes on your social networks on the International Yoga Day 2016.

Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English

Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English
Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English

Half hour for yoga in the morning gives you energy for the whole day and cools your mind to face all the problems of a day. Yoga also increases the immunity of the body, which prevents us from many chronic diseases. It strengthens and stabilizes the spine and can relieve back pain, stress, anxiety, and tension. It is ancient Indian science of balancing body, mind and soul. There are mainly 21 Aasnas in yoga related to Pranayam. Yoga in Indian tradition is not only related to physical exercise, it also includes meditation and spiritual practice. Yoga is a science of unfolding the infinite potential of human body and the human soul.

Yoga is not only a way of throwing out extra weight and flowing sweat by work out till hours, it is the best way to know about yourself, about your strength and your supernatural power simply  makes you free from the drama, from the tragedy, and your mind creates and allows you to experience true yourself.

Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English

योग हमारी भारतीय संस्कृति की प्राचीनतम पहचान है। पतंजली योग दर्शन के अनुसार –  योगश्चित्तवृत्त निरोधः अर्थात् चित्त की वृत्तियों का निरोध ही योग है।योग धर्म, आस्था और अंधविश्वास से परे एक सीधा विज्ञान है… जीवन जीने की एक कला है योग। योग शब्द के दो अर्थ हैं और दोनों ही महत्वपूर्ण हैं, पहला है– जोड़ और दूसरा है समाधि।जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ते, समाधि तक पहुँचना कठिन होगा अर्थात जीवन में सफलता की समाधि पर परचम लहराने के लिये तन, मन और आत्मा का स्वस्थ होना अति आवश्यक है और ये मार्ग और भी सुगम हो सकता है, यदि हम योग को अपने जीवन का हिस्सा बना लें।

योग स्वयं की, स्वयं के माध्यम से, स्वयं तक पहुँचने की यात्रा है।  योग विश्वास करना नहीं सिखाता और न ही संदेह करना और विश्वास तथा संदेह के बीच की अवस्था संशय के तो योग बिलकुल ही खिलाफ है। योग कहता है कि आपमें जानने की क्षमता है, इसका उपयोग करो। अनेक सकारात्मक ऊर्जा लिये योग का गीता में भी विशेष स्थान है। भगवद्गीता के अनुसार – सिद्दध्यसिद्दध्यो समोभूत्वा समत्वंयोग उच्चते अर्थात् दुःख–सुख, लाभ–अलाभ, शत्रु–मित्र, शीत और उष्ण आदि द्वन्दों में सर्वत्र समभाव रखना योग है। । यह हमारे शारीरिक, मानसिक और आत्मिक स्वास्थ्य के लिये लाभदायक है। योग के माध्यम से आत्मिक संतुष्टि, शांति और ऊर्जावान चेतनाकी अनुभूति प्राप्त होती है, जिससे हमारा जीवन तनाव मुक्त तथा हर दिन सकारात्मक ऊर्जा के साथ आगे बढता है। हमारे देश की ऋषि परंपरा योग को आज विश्व भी अपना रहा है।

जिसका परिणाम है कि 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस ( International Yoga Day ) मनाये जाने के लिए संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रखे गये प्रस्ताव को 177 देशो ने अत्यंत सीमित समय में पारित कर दिया l और आज 21 जून 2016 को प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस / Second International Yoga Day पूरी दुनिया मे बड़े उत्साह के साथ मनाया जा रहा है ।

Hope you enjoyed this article and gained information about Yoga Day 21 June Speech Essay in Hindi English. For more details stay connected with us. Also, you can put your queries in Comment Box, we will respond quickly.Don’t forget to share this article with your near dears on social media sites such as Facebook, twitter, tumblr, pinterest, digg, google plus, linkedin, stumbleupon, etc. Be Happy

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*



*